Most Powerful Countries In 2022 सबसे शक्तिशाली देश जिन पर कब्जा करना नामुमकिन है

Most Powerful Countries In 2022 : दोस्तों आज मैं इस लेख में आप सभी को बताऊंगा 10 देश वह कौन-कौन से हैं जिस पर कब्जा करना नामुमकिन है, इसके बारे में आपको इस लेख को पूरा पढ़ने से आगे की पुरी जानकारी मिल जाएगी।

आप सभी को मालूम ही होगा कि आज दुनिया में वैसे तो 200 से ज्यादा देश है जिसमे दो देश इसी साल बने हैं। आप सभी को बता दूं कि इतने सारे देशों में कौन से वह 10 देश हैं जिन पर कब्जा करना लगभग नामुमकिन है, जो दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश कहे जाते हैं।

यदि आप यह सोच रहे हैं कि किसी भी देश की जीडीपी या आर्मी से उसे शक्तिशाली देश कहा जाता है तो आप गलत सोच रहे हैं, क्योंकि किसी भी देश को आर्मी या जीडीपी से शक्तिशाली देश नहीं माना जाता है।

बल्कि उसे पावरफुल बनाने के लिए कई इयर्स फेक्टर्स को भी जोड़ा जाता है। आज मैं आप सभी को इस लेख में बताऊंगा कौन वे 10 देश है जो दुनिया में Most Powerful Country कहलाते हैं।

Most Powerful Countries In 2022
Most Powerful Countries In 2022

दसवे नम्बर पर है सऊदी अरब

आपको यह बता दू कि यह देश तो वैसे ही पुरी दुनिया में अपने सबसे अलग और सबसे खतरनाक कानून की वजह से बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है, वहां पर लोकल लोगों से ज्यादा दूसरे देश के लोग रहते हैं और पैसा कमाते हैं।

सऊदी अरब सभी देशों में सबसे बड़ा देश माना जाता है सऊदी ने दुनिया में तेरावा स्थान प्राप्त किया है, एरिया में सऊदी अरब के पास 21 लाख 49 हजार 690 किलो मीटर स्क्वायर का क्षेत्र है।

सऊदी अरब में 3 Crore 57 लाख से ज्यादा लोग रहते हैं और इस देश में लगभग 70 परसेंट से ज्यादा लोग दूसरे देश के हैं बल्कि यहां की सबसे बड़ी आबादी Oil Field में काम करती है वैसे इस देश में और भी कई बड़े-बड़े Industries है।

सऊदी अरब की Oil Field Industries दुनिया की सबसे बड़ी Oil Field Industries माना जाता है सऊदी अरब में एक विशाल एरिया मतलब की 11,000 स्क्वायर किलोमीटर में इसकी Oil Industries फैला हुआ है, जिसके कारण सऊदी अरब दुनिया का सबसे बड़ा तेल निर्यातक देश माना जाता है और क्रूड आयल से सऊदी की इकोनामी भी चलाई जाती है।

सऊदी अरब किं Total GDP 876.148 Billion डॉलर की है जिसके कारण यह दुनिया में 18वां सबसे बड़ा इकोनामी वाला देश माना जाता है जोकि अपने टोटल जीडीपी का 8.4% अपने मिलिट्री पर खर्च करता है।

सऊदी अरब अपने मिलिट्री पर खर्च करने में दुनिया में नौवें नंबर पर आता है हालाकि सऊदी अरब में मात्र 2लाख 27हजार सक्रिय सेना हैं इसके बावजूद यह दुनिया का 10वा सबसे पावरफुल देश माना जाता है।

नवे नम्बर पर है तुर्की

तुर्की दुनिया का छठा सबसे बड़ा पर्यटक स्थल है जिसके साथ ही तुर्की खूबसूरत देशों में से एक माना जाता है तुर्की पूरे विश्व भर का एक ऐसा देश है जिसका कुछ भाग यूरोप और कुछ भाग एशिया में आता है, जिसके कारण इस देश को यूरेशिया के नाम से जाना जाता है।

783562 किलोमीटर स्क्वायर के क्षेत्र में फैले हुए इस देश की आबादी लगभग 8 Crore 55 लाख लोगों से भी ज्यादा है फिर भी इस देश की जीडीपी दुनिया में 17वें नंबर पर है जो कि 845 Billion यूएस डॉलर का है और यह देश अपने मिलिट्री पर अपने Total GDP का 2.77% खर्च करती हैं।

वैसे तो तुर्की सैन्य ताकत में पूरी दुनिया में आठवें नंबर पर आता है आपको यह बता दू कि इतना ही नहीं नाटो में अमेरिका के बाद तुर्की की ही सेना आती है सबसे ज्यादा संख्या में और ताकत में जिसके कारण यह दुनिया का नवा सबसे शक्तिशाली देश कहा जाता है।

आठवे नंबर पर है जर्मनी

3 लाख 57 हजार किलोमिटर स्क्वायर के क्षेत्र में फैले हुए इस देश की आबादी यूरोपियन देशों में दूसरे नंबर पर आता है यानि 8 करोड़ 42 लाख से भी ज्यादा लोग जर्मनी मे रहते है।

जर्मनी की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में से एक है और जर्मनी अपने मैन्युफैक्चरिंग पे बहुत ही ज्यादा ध्यान देता दुनिया में इसे मैन्युफैक्चरिंग हक के नाम से भी जाना जाता है जिसके कारण विश्व भर में जर्मनी का बहुत ही बड़ा प्रभाव है।

इस देश की सबसे खास बात यह है कि यहां की सड़कों पर 9 Speed Limit रहता है मतलब कि आप सभी जितना ज्यादा तेज गाड़ी चलाना चाहते हैं उतना ज्यादा चला सकते हैं।

जर्मनी के मिलिट्री पावर की बात करें तो जर्मनी कि मिलिट्री यूरोपीय देशों में दूसरे नंबर पर आते हैं मतलब कि जर्मनी के पास 183700 सक्रिय सेना है। और यहां पर 30050 रिजर्व सेना है।

जर्मनी की सरकार अपनी मिलिट्री पर अपनी टोटल जीडीपी का 1.4 प्रतिशत खर्च करती हैं। हालांकि जर्मनी में बहुत दिनों से मिलिट्री पर जॉइनिंग बंद है फिर भी यह देश दुनिया में आठवां सबसे शक्तिशाली देश माना जाता है।

सातवे नंबर पर है फ्रांस

France एक ऐसा देश है जहां पर मानव जीवन के सबसे पुराने निशान मौजूद है आज भी यानी कि 1.8 मिलियन वर्ष पहले के है यह निशान जो की आज भी फ्रांस में मौजूद है इस देश की सबसे खास बात यह है कि दुनिया में सबसे ज्यादा साहित्य नोबेल पुरस्कार France के साहित्यकारों द्वारा ही जीता जाता है जो कि 6 लाख 43 हजार 8 सौ किलोमीटर स्क्वायर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

इस देश में 6 Caror 74 लाख से भी ज्यादा लोग रहते हैं इतना ही नहीं फ्रांस के पास दुनिया कि छठी सबसे शक्तिशाली सेना है क्योंकि फ्रांस में 2 लाख 8 हजार 700 सक्रिय सेना है।

जिसमें से 35000 सेना रिजर्व है और तो और फ्रांस के जीडीपी के बारे में बात करे तो यह GDP 2.94 ट्रिलियन डॉलर की है जो कि दुनिया में सातवें नंबर पर आती है और फ्रांस अपने जीडीपी का 2.8 प्रतिशत अपनी मिलिट्री पर खर्च करता है।

आपको यह बता दूं कि फ्रांस में मशीनरी, केमिकल्स,ऑटोमोबाइल्स, एयरक्राफ्ट और टेक्सटाइल जैसे व्यापार इस देश की इकोनॉमी मानी जाती है इतना ही नहीं फ्रांस के पास 290 से ज्यादा न्यूक्लियर बम है।

छठवें नंबर पर है साउथ कोरिया

साउथ कोरिया एक छोटा देश है जो कि काफी विकसित देश माना जाता है साथ ही साउथ कोरिया का नाम एशिया के सबसे अमीर देश में भी आता है जो कि लगभग 100363 किलोमीटर स्क्वायर के क्षेत्र में फैला हुआ है और साउथ कोरिया के इतने छोटे से एरिया में 5 करोड़ 13 लाख से भी ज्यादा लोग यहां पर रहते हैं।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि 92% लोग इंटरनेट का यूज करते हैं, जिसे आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि यह देश कितना डेवलप देश है क्योंकि इस देश का पावरफुल बनना इतना आसान नहीं था।

यह देश जापान और चाइना के बीच में बसा हुआ है लेकिन साउथ कोरिया की खास बात यह है कि इसके पास दुनिया कि छठी सबसे बड़ी एयरफोर्स है।
साउथ कोरिया की जीडीपी के बारे में बात करे तो साउथ कोरिया की जीडीपी 1.80 ट्रिलियन डालर की है जो कि दुनिया में दसवे नंबर पर आता है।

यह देश अपनी GDP का 2.8% अपनी मिलिट्री पर खर्च करता है इसी के वजह से ही साउथ कोरिया पावरफुल कंट्री 140 देशों में छठे नंबर पर आता है जिसके पास 5 लाख 55 हजार सक्रिय सेना है और 275000 रिजर्व सेना है इसकी एक और सबसे खास बात यह है कि साउथ कोरिया अपने देश के लोगों को एजुकेशन और Business पर बहुत ही ज्यादा खर्च करता है।

पाचवे नंबर पर है जापान

जापान में 12 करोड़ 57 लाख लोगों की आबादी वाले इस देश में समय का बहुत ही ज्यादा महत्व है जापान के लोग दुनिया में सबसे ज्यादे मेहनती माने जाते हैं।
तभी तो जापान दुनिया में अर्थव्यवस्था में अमेरिका के बाद तीसरे नंबर पर आता है क्योकि अगर हम जापान की जीडीपी के बारे में बात करें तो जापान की GDP 5.586 Trillion US dollars हैं।

यह अपने टोटल जीडीपी का 1% अपने मिलिट्री पर खर्च करता है क्योंकि जापान की मिलिट्री पर अमेरिका काबू करना चाहता था लेकिन जापान ने अपनी जिंदगी में कभी हार नहीं मानी जापान तो शुरू से ही टेक्नोलॉजी पर ध्यान देता है और जापान ने अपनी पूरी ताकत टेक्नोलॉजी पर लगा दी। तभी तो आज टेक्नोलॉजी जापान की एक पहचान बन गया है।

वैसे तो जापान की सेना कई सारे देश की मिलिट्री से काफी छोटी है लेकिन पावर में किसी से भी कम नहीं है, जापान के पास 2 लाख 47 हजार एक्टिव Presonal है और 56000 रिजर्व पर्सनल है जिससे यह पता लगता है कि यह कई सारी कंट्री से कम आर्मी वाली कंट्री हैं फिर भी जापान पावरफुल वाली कंट्री में अपना नाम रखता है।

चौथे नंबर पर है इंडिया

पिछले चार दशकों में इंडिया ने भी अपनी अर्थव्यवस्था पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया है जिससे भारत में 6.5 प्रतिशत की अर्थव्यवस्था में बृद्धि भी हुई है, वैसे इंडिया भी जनसंख्या के मामले में दुनिया में चीन के बाद दूसरे नंबर पर आता है।

मतलब की इंडिया की जनसंख्या 138 करोड़ से भी ज्यादा है इसी वजह से इंडिया भी मिलिट्री पावर में दुनिया में चौथे नंबर पर आता है क्योकि भारत के पास 14 लाख 55 हजार एक्टिव पर्सनल है और इस देश के पास दुनिया में सबसे ज्यादा रिजर्व पर्सनल है मतलब की 11 लाख 55 हजार India के पास रिजर्व पर्सनल है।

इंडिया ने पिछले कुछ समय से ही अपने जीडीपी का 3.25 Trillion में से 2.9% मिलिट्री पर ही खर्चा किया है और हथियार खरीदा है जिसकी वजह से इंडिया दुनिया का नंबर वन देश हो गया है इंडिया हथियार खरीदने के मामले में और कई अंतरराष्ट्रीय एक्सपर्ट का कहना है कि आने वाले समय में यानी कि 2050 तक India अमेरिका,रसिया,सऊदी अरब जैसे देशों को पीछे छोड़कर मिलिट्री पावर में दुनिया में नंबर वन पर आ जाएगा।

आपको यह बता दूं कि भारत मिलट्री पावर के अलावा लिटरेचर आर्ट और कल्चर की वजह से दुनिया में अपना एक अलग पहचान रखता है और साथ ही इसकी फिल्म इंडस्ट्री क्रिकेट और योगा इसे एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी उच्च दर्जे का देश बनाती है यह सारी चीज दुनिया में भारत के पास सबसे बेहतर है।

तीसरे नंबर पर है चीन

अब हम बात करते है धोखेबाज चीन के बारे में हर सुपर पावर की अपनी एक कहानी होती है वैसे आपको यह बता दूं कि चीन में खरीदने की क्षमता अमेरिका से ज्यादा है जिसकी वजह से चीन दुनिया की सबसे बड़े अर्थव्यवस्था वाला देश तो है ही साथ ही आबादी के मामले में चीन दुनिया में नंबर वन पर है मतलब चीन की आबादी 140 करोड़ से भी ज्यादा है।

चीन जीडीपी के मामले में China अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर आता है चाइना में हर 17 सौ लोगों में से 1 लोग इंटरपेनियर हैं यानि उस देश के 1700 में से 1 लोग उद्योगपति हैं इसी की वजह से चाइना ज्यादा विदेशी निवेशको पर ध्यान देता है।

इतना ही नहीं चीन की Peoples Army दुनिया की सबसे विशाल सेना है क्योकि चीन के पास 22 लाख सेना है और 11 लाख 70 हजार रिजर्व सेना है जिसके कारण चाइना दुनिया में तीसरे नंबर पर रैंक करता है आर्मी के मामले में।

अगर हम चाइना की जीडीपी के बारे में बात करें तो कहने के तो इसकी जीडीपी अमेरिका से इसका कम है लेकीन चीन की जीडीपी 29.4 Trillon डालर का है।
जिसमें से चाइना अपने टोटल जीडीपी का 1.7% अपनी मिलिट्री पर खर्च करता है इसी वजह से चाइना सूचि में दूसरे नंबर पर आता है।

दूसरे नंबर पर है रूस

गोलबल फायर Power केAccording रूस मिलिट्री पावर में दुनिया का दूसरा सबसे शक्तिशाली देश है यानी कि अमेरिका के बाद रूस दूसरे नंबर पर मिलिट्री पावर में आता है इतना ही नहीं Russia के पास 6000 से ज्यादा न्यूक्लियर विपन है जो कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है उसके पास साथ ही रूस के पास सबसे आधुनिक हथियार और युद्ध प्रणाली मौजूद है, जिसके वजह से रुसी मिलिट्री को कोई भी देश हराने के बारे में सोच भी नहीं सकता है।

अगर सोचता भी है तो रूस अपने आगे टिकने नहीं देता है वैसे तो रूस क्षेत्रफल के हिसाब से दुनिया का सबसे बड़ा देश है रूस के पास 70 लाख 98 हजार 246 किलो मीटर स्क्वायर क्षेत्र है और रूस की जनसंख्या के बारे में बात करें तो 14 करोड 54 लाख 78 हजार लोग इस देश में रहते हैं।

रूस का मिलिट्री बजट दुनिया में चौथे नंबर पर आता है क्योंकि रूस अपनी जीडीपी का 61.60 Billion Dollar यानी कि अपनी टोटल जीडीपी का 4.3% रूस अपनी मिलिट्री पर खर्च कर देता है हालांकि रूस की इकोनामी तेल पर भी निर्भर है क्योकि रूस तेल उत्पादन के मामले में दुनिया में दूसरे नंबर पर आता है।

पहले नंबर पर है United States Of America

अमेरिका इस दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश है लेकिन यहां पहले हमेशा से नहीं था क्योकि अमेरिका और स्पेन 1889 में युद्ध हुआ था जिसमें अमेरिका की जीत हुई थी क्योंकि अमेरिका उस समय से हथियार बनाकर दूसरे देशों को बेचा करता था जिसका नतीजा आज आप देख ही रहे है।

यानी कि मौजूदा समय में तो अमेरिका दुनिया भर में हथियार सप्लाई करने के मामले में नंबर वन पर आता है साथ ही यह देश शुरू से ही टेक्नोलॉजी पर ध्यान देता है जिस वजह से आज अमेरिका में होने वाली हर घटना का असर दुनिया भर के अन्य देशों पर भी पड़ता है अमेरिका हर एक चीज में आज दुनिया भर में नंबर वन पर रैंक करता है।

अगर हम अमेरिका के जीडीपी के बारे में बात करें तो इसकी जीडीपी 21.40 Trillion Dollars का है। और जीडीपी पर कैप्टा यानि प्रति व्यक्ति आय $65280 है जिस वजह से अमेरिका के पास दुनिया के सबसे शक्तिशाली मिलिट्री पावर है और अमेरिका अपनी सेना पर हर साल $778 खर्च करती है साथ ही यूएसए की Active Personal 13 लाख 77 हजार है वहीं पर रिजर्व पर्सनल 7 लाख 99 हजार 5 सौ है।

यानि कुल अमेरिका के पास 21 लाख सेना है मौजूदा टाइम में इसी वजह से अमेरिका दुनिया में Most Powerfull Country भी बोला जाता है।
अगर आप सभी को आज का यह हमारा लेख पसंद आया होगा तो आप सभी अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिए।

edigitalhindi
इसे भी पढ़े –

Tax saving Investment Tips in Hindi टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट टिप्स

Best Saving Account 2022 in Hindi सर्वश्रेष्ठ बचत खाता 2022

Best Lifetime Free Credit Card 2022 बेस्ट लाइफटाइम फ्री क्रेडिट कार्ड 2022

IDFC First Banking Program in Hindi || IDFC First Bank

How to Choose the Best Current Account? सर्वश्रेष्ठ चालू खाता कैसे चुनें?

Become Succesfull Leader in Direct Selling डायरेक्ट सेल्लिंग में सफल लीडर बनना है तो यह कला सिखाना पड़ेगा

Network Marketing Myths: इसको जानने के बाद Network Marketing को लेकर सारे भ्रम से दूर हो जायेंगे

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top